Exams related-राजस्थान का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति तथा जिले

Table of Contents

Exams relatedराजस्थान का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति तथा जिले

image 23

माध्यम से हम राजस्थान (Rajasthan) की विस्तृत एवं महत्वपूर्ण जानकारी जानेगें, जिसमे राज्य का इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, शिक्षा, संस्कृति और राज्य में स्थित विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल आदि जैसी महत्वपूर्ण एवं रोचक जानकरियों को जोड़ा गया है।

image 24

इसके अतिरिक्त राजस्थान राज्य में हाल ही में हुये विकास व बदलाव को भी विस्तारपूर्वक बताया गया है। यह अध्याय प्रतियोगी परीक्षार्थियों के साथ-साथ पाठकों के लिए भी रोचक तथ्यों से भरपूर है।

राजस्थान का संक्षिप्त सामान्य ज्ञान
राज्य का नाम राजस्थान (Rajasthan)
इकाई स्तर राज्य
राजधानी जयपुर
राज्य का गठन 1 नवम्बर 1956
सबसे बड़ा शहर जयपुर
कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी
राजकीय जानवर चिंकारा
राजकीय पेड़ खेजड़ी
राजकीय फूल रोहेड़ा
राजकीय भाषा हिंदी, राजस्थानी

लोक नृत्य कठपुतली, धापाल, जिंदाद, पूगर, सुइसिनी, बगरिया, ख्याल, शकरिया, गोयिका, लीला, झूलनलीला, कामड़, चरी, चंग, फुदी, गीदड़, गैर पणिहारी और गणगौर

राजस्थान के बारे में जानकारी
Complete Data of Assam in Hindi:राजस्थान भारत के पश्चिमोत्तर में स्थित एक राज्य है। राजस्थान की राजधानी और राज्य का सबसे बड़ा शहर जयपुर है। राज्य के उत्तर में पंजाब, पश्चिम में पाकिस्तान, दक्षिण-पूर्व में मध्यप्रदेश और दक्षिण-पश्चिम में गुजरात, उत्तर-पूर्व में उत्तरप्रदेश और हरियाणा स्थित है। राजस्थान का कुल क्षेत्रफल लगभग 3,42,239 वर्ग किलोमीटर है। राजस्थान क्षेत्रफल के आधार पर भारत का सबसे बड़ा राज्य है।

image 25

राजस्थान का इतिहास-

                  Rajasthan History in Hindi: पुरातात्विक और ऐतिहासिक प्रमाणों के आधार पर पता चलता है कि राजस्थान का इतिहास प्रागैतिहासिक काल से शुरू होता है। राज्य में सातवीं से ग्यारहवीं सदी के बीच कई राजवंशों का उदय हुआ था जिनमें मीणा,गुर्जर, राजपूत, मौर्य, जाट आदि प्रमुख थे। अकबर, कुछ राजपूत राज्यों को मुगल शासन के अधीन लेकर आया। 19वीं सदी की शुरुआत में वे मराठों से संबंद्ध हो गए। सन् 1935 में ब्रिटिशशासन वाले भारत में प्रांतीय स्वायत्तता लागू होने के बाद राजस्थान में नागरिक स्वतंत्रता तथा राजनीतिक अधिकारों के लिए कई आंदोलन हुए। साल 1948 में इन बिखरी हुई रियासतों को एक करने की प्रक्रिया शुरू हुई, जो 1956 में राज्य में पुनर्गठन क़ानून लागू होने तक जारी रही। सबसे पहले 1948 में 'मत्स्य संघ' बना, जिसमें कुछ ही रियासतें शामिल हुईं। धीरे-धीरे बाकी रियासतें भी इसमें मिलती गईं। सन् 1949 तक बीकानेर, जयपुर, जोधपुर और जैसलमेर जैसी मुख्य रियासतें इसमें शामिल हो चुकी थीं और इसे 'बृहत्तर राजस्थान संयुक्त राज्य' का नाम दिया गया। सन् 1958 में अजमेर, आबू रोड तालुका और सुनेल टप्पा के भी शामिल हो जाने के बाद वर्तमान राजस्थान राज्य विधिवत अस्तित्व में आया।

राजस्थान का भूगोल-

        पश्चिम राजस्थान अपेक्षाकृत सूखा और बंजर है, इसके कुछ हिस्से में थार का रेगिस्तान भी आता है जिसे ग्रेट इंडियन डेज़र्ट भी कहा जाता है और घग्घर नदी का अंतिम छोर है। विश्व की पुरातन श्रेणियों में प्रमुख अरावली श्रेणी राजस्थान की एकमात्र पहाड़ी है जो माउंट आबू और विश्वविख्यात दिलवाड़ा मंदिर को सम्मिलित करती है। पूर्वी राजस्थान में दो बाघ अभयारण्य, रणथम्भौर एवं सरिस्का हैं और भरतपुर के समीप केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान है, जो पक्षियों की रक्षार्थ निर्मित किया गया है। राजस्थान काविशाल भारतीय तिलोर'राजस्थान में बहुत से नदियाँ बहती है जिनमें चम्बल, काली सिंध, बनास, बाणगंगा, पार्वती, गंभीरी, लूनी, मादी, घग्घर (प्राचीन सरस्वती), काकनी, सोम, जोखम, काटली और साबी नदी शामिल है।

राजस्थान की जलवायु-
Rajasthan Environment in Hindi: राजस्थान की जलवायु शुष्क से उप-आर्द्र मानसूनी जलवायु है। यहां पर ग्रीष्म ऋतु में तापमान 25 डिग्री से 46 डिग्री सेल्सियस तक और सर्दियों में तापमान 8 डिग्री से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। राज्य में औसत वार्षिक वर्षा पश्चिमी रेगिस्तान में लगभग 100 मिमी. और राज्य के दक्षिण-पूर्व हिस्से में 650 मिमी. तक होती है।

राजस्थान की अर्थव्यवस्था
Rajasthan Economy in Hindi: राजस्थान एक खनिज समृद्ध राज्य है और इसकी एक विविध अर्थव्यवस्था है जिसमें कृषि, खनन और पर्यटन विकास के मुख्य भाग हैं। राजस्थान में भी एक बड़ा खनन क्षेत्र है। राज्य पॉलिएस्टर का शीर्ष उत्पादक और भारत में सीमेंट का सबसे बड़ा उत्पादक है, जिसकी क्षमता प्रति वर्ष 44 मिलियन टन से अधिक है। फिर भी राजस्थान का उद्योग अपेक्षाकृत अविकसित है और शहरीकरण भी ऐसा ही है।

राजस्थान की कृषि व्यवस्था
Rajasthan Farming Framework in Hindi: राजस्थान की अर्थव्यवस्था कामुख्य आधार कृषि है। राजस्थान के लगभग 80% लोग कृषि तथा संबंधित गतिविधियों पर आश्रित हैं। राजस्थान में कुल मिलाकर खेती लायक भूमि 27,465 हजार हेक्टेयर है और बुवाई क्षेत्र 20,167 हजार हेक्टेयर है। राज्य की प्रमुख फसलें चावल, जौ, ज्वार, बाजरा, मक्का, चना, गेहूँ, तिलहन, दालें, कपास, लाल मिर्च, सरसों, मेथी, ज़ीरा, हींग और तंबाकू एक है।

राजस्थान के प्राकृतिक संसाधन, खनिज पदार्थ व उद्योग
Rajasthan Regular Assets, Minerals and Businesses in Hindi: राजस्थान सांस्कृतिक रूप में समृद्ध होने के साथ-साथ खनिजों के मामले में भी समृद्ध रहा है। राज्य में कई प्रकार के प्राकृतिक संसाधन भी पाए जाते है, जिनमें मुख्य रूप से लिग्नाइट, फुलर्सअर्थ, टंगस्टन, बैण्टोनाइट, जिप्सम, संगमरमर , कच्चा तेल(जैसलमेर क्षेत्र में), ताबा , जस्ता, अभ्रक, पन्ना तथा घीया पत्थर शामिल है। राज्य के प्रमुख उद्यगों में वस्त्र, ऊनी कपडे, चीनी, सीमेंट, काँच, सोडियम संयंत्र, ऑक्सीजन, वनस्पति, रंग, कीटनाशक, जस्ता, उर्वरक, रेल के डिब्बे, बॉल बियरिंग, पानी व बिजली के मीटर, टेलीविज़न सेट, सल्फ्यूरिक एसिड, सिंथेटिक धागे तथा तापरोधी ईंटें आदि शामिल है।राजस्थान के प्रमुख औद्योगिक परिसर जयपुर, कोटा, उदयपुर और भीलवाड़ा में हैं। अप्रैल-सितंबर 2020 में चूना पत्थर का उत्पादन 31.04 मिलियन टन तक पहुंच गया।

राजस्थान की जनसंख्या
Rajasthan Populace Data in Hindi: वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार राजस्थान की आबादी 68,548,437 करोड़ है। जिसमे पुरुषों की जनसंख्या 35,550,997 और महिलाओं की जनसंख्या 32,997,440 है। राजस्थान का लिंग अनुपात 1000 पुरुषों पर 926 महिलाओं का है। राजस्थान के सबसे बड़े शहर जयपुर, जोधपुर और कोटा हैं।

Table of Contentslatest news

Leave a Comment

0Shares