पितृ पक्ष2023सोना सस्ता, चांदी महंगी

Table of Contents

सोना सस्ता, चांदी महंगी

नई दिल्ली (पीटीआई)। देश की राजधानी नई दिल्ली में शुक्रवार को सोने का भाव 250 रुपये फिसल कर 58,700 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर आ गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक, इंटरनेशनल मार्केट में गिरावट की वजह से घरेलू सराफा के भाव मंदे रहे। पिछले कारोबारी सत्र में सोने का सौदा 58,950 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर किया गया था।

चांदी का रेट 74,300 रुपये प्रति किलोग्राम

घरेलू सराफा बाजार में शुक्रवार को चांदी का रेट 1,200 रुपये लुढ़क कर 74,300 रुपये प्रति किलोग्राम रह गया। एचडीएफसी सिक्योरिटीज में सीनियर कमोडिटी एनालिस्ट सौमिल गांधी ने कहा कि दिल्ली में सोने का हाजिर भाव गिर कर 19 मार्च के निचले स्तर पर आ गया।

इंटरनेशनल मार्केट में सोना 1,871 डाॅलर प्रति औंस

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना फिसल कर 1,871 डाॅलर प्रति औंस के स्तर पर आ गया। वहीं चांदी का रेट उछल कर 23.05 डाॅलर प्रति औंस के स्तर पर जा पहुंचा। गांधी ने कहा कि सप्ताह की शुरुआत से ही सोने का सौदा नीचे भाव पर किया जा रहा है। यूएस फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के संकेत देने के बाद से ही सोने के भाव में गिरावट दिख रही है।

image

क्या चांदी सोने से कम महंगी है?
प्रति औंस, चांदी सोने की तुलना में सस्ती होती है , जिससे यह छोटे खुदरा निवेशकों के लिए अधिक सुलभ हो जाती है जो कीमती धातुओं को भौतिक संपत्ति के रूप में रखना चाहते हैं।

क्या पितृ पक्ष में सोना खरीदना चाहिए?
क्या पितृ पक्ष में सोना खरीद सकते हैं? इस दौरान पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध कर्म, पिंडदान और तर्पण किया जाता है। इन 16 दिनों के दौरान किसी भी प्रकार के शुभ, मांगलिक कार्य करना वर्जित होता है। इस दौरान सोना, चांदी या अन्य चीजें खरीदना वर्जित होता है।

क्या श्राद्ध में नई चीजें खरीदनी चाहिए?
श्राद्ध के दौरान आमतौर पर लोग नए कपड़े खरीदने या पहनने से बचते हैं , बाल कटवाने से भी बचना चाहिए। शुभ कार्य जैसे विवाह, विवाह निपटाना, किसी भी प्रकार का जन्म समारोह आदि

सरसों तेल भी नहीं खरीदते हैं, क्योंकि यह शनि का प्रतीक है। दान करने के लिए पहले से खरीदकर रखें। झाड़ू भी नहीं खरीदना चाहिए क्योंकि यह माता लक्ष्मी का प्रतीक है। झाड़ू खरीदने से आपको धन हानि हो सकती है

Table of Contentslatest news

Leave a Comment

0Shares